पाव भाजी रेसिपी / Pav Bhaji Recipe

पाव भाजी एक प्रमुख भारतीय अल्पाहार है। महाराष्ट्र में इसका बहुत प्रचलन हैं विशेषकर के मुंबई की पाव भाजी विश्व प्रसिद्ध है। पाव भाजी शब्द मराठी भाषा के पाव और भाजी से बना है। पाव एक प्रकार की डबल रोटी होती है और भाजी कई शाक जैसे टमाटर, फूल गोभी,शिमला मिर्च आदि को घी अथवा मक्खन में पका कर बनाई जाती है। पाव शब्द की उत्पत्ती पुर्तगाली शब्द पाओ (pão) से मानी जाती है।

 

पाव भाजी रेसिपी / Pav Bhaji Recipe: घर पर बनाइए मार्केट जैसी टेस्टी पाव भाजी, खाने वाले कहेंगे वाह, ये है रेसिपी

पाव भाजी रेसिपी / Pav Bhaji Recipe
पाव भाजी रेसिपी / Pav Bhaji Recipe

Pav Bhaji Recipe: पाव भाजी का मसालेदार स्वाद किसे नहीं पसंद आता है. इसका तीखापन कई बार आंखों में आंसू भले ही ला देता है लेकिन इससे कोई इसे खाने से दूर भी नहीं भागता. तो आइए जानते हैं पाव भाजी बनाने की रेसिपी.

 

Pav Bhaji Recipe: बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को पाव भाजी का स्वाद बहुत लुभाता है. इसे काफी सारी सब्जियों को एकसाथ मिक्स कर बनाया जाता है. गरमागरम पाव के साथ इसे खाने का अपना अलग ही मजा है.

 

पाव भाजी बनाने की सामग्री/ ingredients for pav bhaji

 

3 आलू

1 गाजर

1 फूलगोभी

1 कटोरी मटर

1 शिमला मिर्च (बारीक कटी हुई)

2 प्याज (बारीक कटी हुई)

8-10 कलियां लहसुन की (कद्दूकस की हुई)

1 इंच अदरक (कद्दूकस किया हुआ)

1 टमाटर (टुकड़ों में कटा हुआ)

2-3 हरी मिर्च (बारीक कटी हुई)

1/4 टीस्पून जीरा

1 टीस्पून हल्दी

1 टीस्पून धनिया पाउडर

1/2 टीस्पून लाल मिर्च पाउडर

1-2 टेबलस्पून पाव भाजी मसाला

2 टीस्पून गरम मसाला

नमक स्वादानुसार

पानी जरूरत के अनुसार

तेल जरूरत के अनुसार

 

पाव भाजी बनाने की विधि/ how to make Pav Bhaji

पाव भाजी रेसिपी / Pav Bhaji Recipe
पाव भाजी रेसिपी / Pav Bhaji Recipe

 

– सबसे पहले आलू, गाजर और फूलगोभी को बड़े-बड़े टुकड़ों में काट लें.

– मीडियम आंच पर एक प्रेशर कूकर में सारी चीजें और पानी डालकर 2-4 सीटी में उबाल लें और आंच बंद कर दें.

– सब्जियों के ज्यादा गल जाने से न डरें क्योंकि इन्हें मैश ही करना है.

– मीडियम आंच पर एक पैन में तेल गरम करने के लिए रखें.

– तेल के गरम होते ही जीरा डालें.

– जीरे के चटकते ही प्याज, लहसुन, अदरक और हरी मिर्च डालकर भूनें.

– प्याज-लहसुन के भुनते ही पहले टमाटर डालकर इसके सॉफ्ट होने तक भूनें और फिर सारी उबली सब्जियों को डालकर अच्छे से मैश करें.

– अब इसमें शिमला मिर्च और मटर डालकर भूनें.

– हल्दी, धनिया पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और पाव भाजी मसाला मिलाएं.

– सब्जी जैसे ही भुनने लगे इसमें जरूरत के अनुसार पानी और नमक डालकर सब्जी को ढककर पकाएं.

– जब आपकी भाजी आपके अनुसार तैयार हो जाए तब इसमें गरम मसाला मिलाकर चलाएं और 1 मिनट बाद आंच बंद कर दें.

– तैयार है भाजी. ऊपर से मक्खन डालकर…मक्खन से गरमागरम पाव सेंककर प्याज, हरी मिर्च और नींबू के साथ सर्व करें.

 

रेसिपी नोट/ Recipe Note :

अगर आप ज्यादा मात्रा में पाव भाजी बना रहे हैं तो टमाटर और शिमला मिर्च काटने में काफी समय लगेगा इसलिए आप चाहे तो फूड प्रोसेसर या चॉपर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

स्वाद में बदलाव लाने के लिए आप इसमें पत्तागोभी थोड़े से चकुंदर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

 

FAQs

 

1. पाव भाजी कहाँ का प्रसिद्ध व्यंजन है?

 

महाराष्ट्र की पाव भाजी सबसे ज्यादा फेमस है. विशेषकर मुंबई की पाव भाजी अपने स्वाद के लिए पूरी दुनिया में फेमस है. इसे बनाने में कई तरह की सब्जियों का इस्तेमाल किया जाता है. पाव को मक्खन में सेंका जाता है और सब्जी पर मक्खन डालकर परोसा जाता है.

 

2. पाव भाजी का मतलब क्या होता है?

 

पाव भाजी शब्द मराठी भाषा के पाव और भाजी से बना है। पाव एक प्रकार की डबल रोटी होती है और भाजी कई शाक जैसे टमाटर, फूल गोभी,शिमला मिर्च आदि को घी अथवा मक्खन में पका कर बनाई जाती है। पाव शब्द की उत्पत्ती पुर्तगाली शब्द पाओ (pão) से मानी जाती है।

 

3. पाव भाजी का नाम कैसे पड़ा?

यह पुर्तगाली शब्द है जिसका अर्थ भी रोटी ही है और कहा जाता है कि यह पुर्तगाली थे जिन्होंने मुंबई में रोटी की शुरुआत की थी, इसलिए पाव उन्हीं से मिला और फिर पाव भाजी बन गया। तो यह थी पाव भाजी के बनने की कहानी, जिसे पेट भरने के लिए बची हुई सब्जियों (बची हुई सब्जियों से बनाएं नई रेसिपीज) से बनाया गया था।

 

4. पाव भाजी के साथ क्या खा सकते हैं?

गर्मागर्म पाव भाजी को नींबू के टुकड़े, प्याज़ और हरी मिर्च के साथ सर्व करें।

 

5. पाव भाजी की खोज किसने की थी?

 

इस व्यंजन की उत्पत्ति 1850 के दशक में मुंबई में कपड़ा मिल श्रमिकों के लिए हुई थी। उनके पास पूर्ण भोजन के लिए दोपहर का भोजन बहुत कम था, और एक हल्का दोपहर का भोजन एक भारी भोजन के लिए पसंद किया गया था, क्योंकि कर्मचारियों को दोपहर के भोजन के बाद ज़ोरदार शारीरिक श्रम पर लौटना पड़ता था।

 

6. पाव भाजी में कितनी कैलोरी होती है?

एक प्लेट पाव भाजी की 401 कैलोरी देता है। जिसमें से कार्बोहाइड्रेट में 232 कैलोरी होती है, प्रोटीन में 38 कैलोरी होती है और शेष कैलोरी वसा से होती है जो 131 कैलोरी होती है

 

जानिए आपकी सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है ग्रीन पाव भाजी

  • आयुर्वेद के अनुसार पालक में फाइबर होने के साथ विटामिन, मिनरल, फाइटोन्यूट्रिएंटस, प्रोटीन पाया जाता है। जिससे यह इम्युनिटी बनाएं रखने के साथ वजन कंट्रोल करने और आखों की समस्याओं के लिए बेहतरीन विकल्प है।
  • हरें टमाटर स्वाद में साधारण टमाटर के मुकाबले ज्यादा खट्टे होते हैं, क्योंकि इनमें फोलेट और कैल्शियम होने के साथ भरपूर मात्रा में विटामिन सी भी पाया जाता है। इम्युनिटी सिस्टम बेहतर बनाने के साथ स्किन हेल्थ के लिए आहार विशेषज्ञों द्वारा हरे टमाटर खाने की सलाह दी जाती है।
  • ग्रीन भाजी में सभी हरि सब्जियों का इस्तेमाल किया गया है, जिससे इसमें फाइबर और आयरन की भरपूर मात्रा होगी।
  • कम ऑयल और हरी सब्जियों के साथ तैयार होने वाली इस भाजी में सिर्फ देसी घी का इस्तेमाल किया गया है, जिससे यह वेट लॉस के लिए अच्छा ऑपशन हो सकती है।

ALSO READ :

/french-foodie-in-dublin-irish-food-blog-tours-and-events/

/cocola-food-products-ltd-job-circular-2017/

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *